Tum Jaan Ho, Tum Jahaan Ho,
Mere Muskuraane Ki Wajah Ho,
Ishq Ki Ek Khilkhilaati Si Ada Ho,
Mere Ashqo Me Bheegi Rooh Ki Dua Ho,
Tum Hi To Wafa Ho, Wazib Kai Ki Pahli Dafa Ho ||

तुम जान हो, तुम जहान हो,
मेरे मुस्कुराने की वजह हो,
इश्क की एक खिलखिलाती सी अदा हो,
मेरे अश्कों में भीगी रूह की दुआ हो,
तुम ही तो वफ़ा हो, वाजिब है कि पहली दफ़ा हो||

Tum Jaan Ho, Tum Jahaan Ho,
Mere Labon Par Khilti Sabra Ka Muskaan Ho,
Meri Har Ek Uljhan Ka Sulajhta Sa Jawab Ho,
Shahad Si Meetha Meri Aarzoo Ka Khawaab Ho,
Tum Hi To Meri Dhadkano Me Baste Yoon Behisaab Ho||

तुम जान हो, तुम जहान हो,
मेरे लबों पर खिलती सब्र की मुस्कान हो,
मेरी हर एक उलझन का सुलझता सा जवाब हो,
शहद सी मीठा मेरी आरज़ू का ख़्वाब हो,
तुम ही तो मेरी धड़कनों में बसते यूँ बेहिसाब हो||

Tum Jaan Ho, Tum Jahaan Ho,
Os Ki Boondon Me Khilta Rahmaton Ka Gulaab Ho,
Mere Pyar Ke Lahoo Se Nikalta Masoomiyat Ka Gulaal Ho,
Mere Jazbaton Ko Roshan Karta Hasraton Ka Mehtaab Ho,
Tum Hi To Meri Saanson Me Doobti Yaadon Ka Aihsaas Ho||

तुम जान हो, तुम जहान हो,
ओस की बूँदों में खिलता रहमतो का गुलाब हो,
मेरे प्यार के लहू से निकलता मासूमियत का गुलाल हो,
मेरे जज़्बातों को रोशन करता हसरतो का महताब हो,
तुम ही तो मेरी साँसों में डूबती यादों का एहसास हो||

Tum Jaan Ho, Tum Jahaan Ho,
Mere Dil Me Rahmaton Ka Karaar Hao,
Behoshi Me Duboti Nasheeli Sharaab Ka Deedar Ho,
Gul Se Mahakti Shabaab-E-Jaam Ho,
Tum Hi To Meri Baanhon Ki Jakad Me Fursat Ki Bahaar Ho||

तुम जान हो, तुम जहान हो,
मेरे दिल में रहमतो का करार हो,
बेहोशी में डूबोती नशीली शराब का दीदार हो,
गुल से महकती शबाब-ए-जाम हो,
तुम ही तो मेरी बाहों की जकड़ में फुर्सत की बहार हो||

By: Jeet

 786 Total Views,  1 Views Today

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here