Teri Bewafaiyon Ko Main Wafa Samjhta Raha
Us Wafa Ki Samjh Ko Sajda Bhi Karta Raha
Khuli Aankh To Tujhe Paaya Kisi Aur Ki Baahon Me
Aur Main Pagal Phir Bhi Tujhe Apna Samjhta Raha ||

तेरी बेवफाइयों को मैं वफ़ा समझता रहा
उस वफ़ा की समझ को सजदा भी करता रहा
खुली आँख तो तुझे पाया किसी और की बाँहों में
और मैं पागल फिर भी तुझे अपना समझता रहा ||

By: Ravi Bhattacharya

 4,133 Total Views,  1 Views Today

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here