Dil Ki Hasraten Dil Me Rakh Kar Hum
Rahe Badhte Ishq Ke Muqaam Par Hum
Tujhe Paane Ki Aas Dil Me Liye Ae Sanam
Pyar Ki Hasraten Sulgaate Rahe Hum ||

दिल की हसरतें दिल में रख कर हम
रहे बढ़ते इश्क़ के मुक़ाम पर हम
तुझे पाने की आस दिल में लिए ऐ सनम
प्यार की हसरतें सुलगाए रहे हम ||

Ek Terfa Chaahat Ka Ye Manzar Gazab Tha
Door Rah Kar Bhi Sanso Me Tu Hi Basa Tha
Surur-E-Ishq Jaate Me Kidhar Ae Hamdum
Mere Dil Ki Manzil Ka Sahil Tu Hi Tha ||

एक तरफा चाहत का ये मंज़र गज़ब था
दूर रह कर भी सांसो में तू ही बसा था
सुरूर-ए-इश्क़ में जाते किधर ऐ हमदम
मेरे दिल की मंज़िल का साहिल तू ही था ||

Aaya Na Izhaar-E-Mohabbat Karna Mujhe
Aankhon Ki Bhasha Padhna Na Aaya Tujhe
Hasraten Tarasti Rahi Nigahon Me Padi
Badh Ke Haath Pakadana Na Aaya Mujhe ||

आया ना इज़हार-ए-मोहब्बत करना मुझे
आँखों की भाषा पढ़ना ना आया तुझे
हसरतें तरसती रही निगाहों में पड़ी
बढ़ के हाथ पकड़ना ना आया मुझे ||

Ravi Bhattacharya

 672 Total Views,  1 Views Today

Spread the love

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here