Kuchh Yaadon Ki
Kuchh Alfaazon Ki
Din Se Ranjishen Na Gayi Tere Aaaghaton Ki|

कुछ यादों की
कुछ अल्फाज़ो की
दिल से रंजिशे न गई तेरे आघातों की।

Kuchh Wadon Ki
Kuchh Ehsaason Ki
Din Se Ranjishen Na Gayi Tere Rooth Jaane Ki|

कुछ वादों की
कुछ एहसासों की
दिल से रंजिशे न गई तेरे रूठ जाने की।

Kuchh Saanso Ki
Kuchh Alfazon Ki
Din Se Ranjishen Na Gayi Tujhse Takraaro Ki|

कुछ सांसों की
कुछ अल्फाज़ो की
दिल से रंजिशे न गई तुझसे तकरारों की।

कुछ ख्वाबों की
कुछ रातों की
दिल से रंजिशे न गई तेरे ठुकराने की।

Kuchh Khawabon Ki
Kuchh Raaton Ki
Dil Se Ranjishesn Na Gayi Tere Thukraane Ki|

By: Jeet

 4,232 Total Views,  1 Views Today

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here