Rukh-E-Parda Hata Do Aaj
Apna Deewana Bana Lo Aaj
Seene Se Laga Ke Khud Ke Mujhe
Apna Ehsaas Bana Lo Aaj ||

रुख-ए-पर्दा हटा दो आज
अपना दीवाना बना लो आज
सीने से लगा के खुद के मुझे
अपना एहसास बना लो आज ||

Mere Lafzon Ko Apna Bana Lo Aaj
Mere Pyar Ko Apna Naam Do Aaj
Baitha Ke Pehloo Me Mujhe
Mere Dil Ki Dhadkan Sun Lo Aaj ||

मेरे लफ़्ज़ों को अपना बना लो आज
मेरे प्यार को अपना नाम दो आज
बैठा के पहलू में मुझे
मेरे दिल की धड़कन सुन लो आज ||

Apni Duniya Me Mujhe Chhupa Lo Aaj
mere Khawab Ko Apna Bana Lo Aaj
Guzar Ke Mere Dil Ki Raahon Se
Apni Dhadkan Me Basa Lo Aaj ||

अपनी दुनिया में मुझे छुपा लो आज
मेरे खवाब को अपना बना लो आज
गुज़र के मेरे दिल की राहों से
अपनी धड़कन में बसा लो आज ||

By: Ravi Bhattacharya

 2,633 Total Views,  10 Views Today

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here