Home Blog

Dil Chahta Hai Aaj

Rukh-E-Parda Hata Do Aaj
Apna Deewana Bana Lo Aaj
Seene Se Laga Ke Khud Ke Mujhe
Apna Ehsaas Bana Lo Aaj ||

रुख-ए-पर्दा हटा दो आज
अपना दीवाना बना लो आज
सीने से लगा के खुद के मुझे
अपना एहसास बना लो आज ||

Mere Lafzon Ko Apna Bana Lo Aaj
Mere Pyar Ko Apna Naam Do Aaj
Baitha Ke Pehloo Me Mujhe
Mere Dil Ki Dhadkan Sun Lo Aaj ||

मेरे लफ़्ज़ों को अपना बना लो आज
मेरे प्यार को अपना नाम दो आज
बैठा के पहलू में मुझे
मेरे दिल की धड़कन सुन लो आज ||

Apni Duniya Me Mujhe Chhupa Lo Aaj
mere Khawab Ko Apna Bana Lo Aaj
Guzar Ke Mere Dil Ki Raahon Se
Apni Dhadkan Me Basa Lo Aaj ||

अपनी दुनिया में मुझे छुपा लो आज
मेरे खवाब को अपना बना लो आज
गुज़र के मेरे दिल की राहों से
अपनी धड़कन में बसा लो आज ||

By: Ravi Bhattacharya

 3,559 Total Views,  7 Views Today

Spread the love

Tujhe Apna Samjhta Raha

Teri Bewafaiyon Ko Main Wafa Samjhta Raha
Us Wafa Ki Samjh Ko Sajda Bhi Karta Raha
Khuli Aankh To Tujhe Paaya Kisi Aur Ki Baahon Me
Aur Main Pagal Phir Bhi Tujhe Apna Samjhta Raha ||

तेरी बेवफाइयों को मैं वफ़ा समझता रहा
उस वफ़ा की समझ को सजदा भी करता रहा
खुली आँख तो तुझे पाया किसी और की बाँहों में
और मैं पागल फिर भी तुझे अपना समझता रहा ||

By: Ravi Bhattacharya

 3,757 Total Views,  7 Views Today

Spread the love

Nazar Hi To Gustaakh Thi

बस नज़र ही तो गुस्ताख़ थी साहब।
वरना कौन, किससे क्या ख़ूब था।।

किसी को हीरो की परवाह ना थी।
कुछ ने पत्थर का हीरो में बदला रूप था।।

किसी ने राह में कठिनाइयों को काँटों से आंका।
कुछ को काँटों की सेज में ही सुकून का पल था।।
बस नज़र ही तो गुस्ताख़ थी साहब।
वरना कौन, किससे क्या ख़ूब था।।

By: Jeet

 4,945 Total Views,  7 Views Today

Spread the love

Atkheliya

Tum Atkheliya Bahut Karti Ho
Kabhi Mere Khwaabo Ko Khubsoorat Banaati Ho
Yaad Dila Kar Mujhe Satatai Ho
To Kahin “Mahi” Ban kar moti Banaato Ho ||

तुम अटखेलियाँ बहुत करती हो,
कभी मेरे ख्वाबों को खूबसूरत बनाती हो
याद दिला कर मुझे सताती हो
तो कहीं “माही ” बन कर मोती बहाती हो ||

By: Ajay Rajput (Jhansi)

 3,875 Total Views,  9 Views Today

Spread the love

Dil Se Ranjishen Na Gayi

Kuchh Yaadon Ki
Kuchh Alfaazon Ki
Din Se Ranjishen Na Gayi Tere Aaaghaton Ki|

कुछ यादों की
कुछ अल्फाज़ो की
दिल से रंजिशे न गई तेरे आघातों की।

Kuchh Wadon Ki
Kuchh Ehsaason Ki
Din Se Ranjishen Na Gayi Tere Rooth Jaane Ki|

कुछ वादों की
कुछ एहसासों की
दिल से रंजिशे न गई तेरे रूठ जाने की।

Kuchh Saanso Ki
Kuchh Alfazon Ki
Din Se Ranjishen Na Gayi Tujhse Takraaro Ki|

कुछ सांसों की
कुछ अल्फाज़ो की
दिल से रंजिशे न गई तुझसे तकरारों की।

कुछ ख्वाबों की
कुछ रातों की
दिल से रंजिशे न गई तेरे ठुकराने की।

Kuchh Khawabon Ki
Kuchh Raaton Ki
Dil Se Ranjishesn Na Gayi Tere Thukraane Ki|

By: Jeet

 3,892 Total Views,  7 Views Today

Spread the love

Tujhe Dekh Kar

Kuch Hasraten Aur Bhi Badh Jati Hai Tujhe Dekh Kar
Zindagi Phir Jeene Ko Man Karta Hai Tujhe Dekh Kar
Tere Bagair Hum To Maayus Ho Chale Thay
Ik Khwaahish Phir Jagi Tujhe Dekh Kar||

कुछ हसरतें और भी बढ़ जाती है तुझे देख कर
ज़िंदगी फिर जीने को मन करता है तुझे देख कर
तेरे बगैर हम तो मायूस हो चले थे
इक ख़्वाहिश फिर जगी तुझे देख कर||

Samaa Dhundhla Gaya Tha Samay Ke Aagosh Me
Phir Sab Jhilmil Ho Uthi Tujhe Dekh Kar
Kho Kar Bhi Paaya Maine Teri Chaahat Ko
Wo Sab Munaasib Hua Tujhe Dekh Kar||

समां धुँधला गया था समय के आगोश में
फिर सब झिलमिल हो उठी तुझे देख कर
खोकर भी पा लिया मैंने तेरी चाहत को
वो सब मुनासिब हुआ तुझे देख कर||

Yoon To Ro Dena Aasaan Hota Hai Magar
Nam Aankhen Bhi Muskaai Tujhe Dekh Kar
Hum To Kisi Bhi Cheez Ke Kabil Na Thay
Kaabil Ho Chale Hum Tujhe Dekh Kar||

यूँ तो रो देना आसान होता है मगर
नम आँखें भी मुस्काई तुझे देख कर
हम तो किसी भी चीज के काबिल ना थे
काबिल हो चले हम तुझे देखकर||

Khamosh Rah Kar Bhi Tujhe Bolna Aata Hai
Meri Aankhen Bol Uthi Tujhe Dekh Kar
Ab To Achchha Lagta Hai Har Mousam
Phir Bemousam Barsaat Hui Tujhe Dekh Kar||

खामोश रहकर भी तुझे बोलना आता है
मेरी आँखें बोल उठी तुझे देख कर
अब तो अच्छा लगता है हर मौसम
फिर बे-मौसम बरसात हुई तुझे देख कर||

 1,867 Total Views,  7 Views Today

Spread the love

Kya Likhoon

क्या लिखूँ

Kuchh Gehra Sa Likhna Tha,
Ishq Se Jyada Kya likhoon?

कुछ गहरा सा लिखना था,
इश्क से ज्यादा क्या लिखूँ ?

Kuchh Sadiyon Se Likhna Tha,
Tumhari Yaadon Se Jyada Kya Likhoon?

कुछ सदियों सा लिखना था,
तुम्हारी यादों से ज्यादा क्या लिखूँ ?

Kuchh Tehra Sa Likhna Tha,
Dard Se Jyada Kya Likhoon?

कुछ ठहरा सा लिखना था,
दर्द से ज्यादा क्या लिखूँ ?

Kuchh Apna Sa Likhna Tha,
Tere Sapno Se Jyada Kya Likhoon?

कुछ अपना सा लिखना था,
तेरे सपनों से ज्यादा क्या लिखूँ ?

Kuchh Ehsaas Sa Likhna Tha,
Teri Muskaan Se Jyada Kya Likhoon?

कुछ अहसास सा लिखना था,
तेरी मुस्कान से ज्यादा क्या लिखूँ ?

Kuchh Samandar Sa Likhna Tha,
Aansoo Se Jyada Kya Likhoon?

कुछ समन्दर सा लिखना था,
आँसू से ज्यादा क्या लिखूँ ?

Kuchh Khoobsurat Sa Likhna Tha,
Aankhon Se Jyada Kya Likhoon?

कुछ खूबसूरत सा लिखना था,
आँखो से ज्यादा क्या लिखूँ ?

By: Rani Sharma

 1,955 Total Views,  7 Views Today

Spread the love

Us Ki Yaadon Me

Use Dekha To Kuchh Hone Laga
Bechain Sa Dil Yoon Hone Laga
Use Dekhne Man Tadpane Laga
Yoon Us Ki Yaadon Me Khone Laga||

उसे देखा तो कुछ होने लगा
बेचैन सा दिल यूँ होने लगा
उसे देखने मन तड़पने लगा
यूँ उस की यादों में खोने लगा||

Use Dekh Dhadkane Badne Lagi
Aankhen Bekas Use Takne Lagi
Dil Ki Ye Lagi Kuchh Aisi Lagi
Yaadon Me Us Ki Muskurane Lagi||

उसे देख धड़कने बढ़ने लगी
आँखें बेकस उसे तकने लगी
दिल की ये लगी कुछ ऐसी लगी
यादों में उस की मुस्कुराने लगी|

Dil Me Us Ke Main Basne Chali
Aankhon Me Us Ke Uterane Chali
Intzar Us Main Ab Karne Lagi
Yoon Us Ki Yaadon Me Jalne Lagi||

दिल में उस के मैं बसने चली
आँखों में उस के उतरने चली
इंतज़ार अब उस का करने लगी
यूँ उस की यादों में जलने लगी||

Raaten Ab Din Si Dhalne Lagi
Khamoshi Meri Simatne Lagi
Sapno Me Gayi Main Us Ki Gali
Yaadon Me Us Ki Yoon Chalne Lagi||

रातें अब दिन सी ढलने लगी
ख़ामोशी मेरी सिमटने लगी
सपनों में गयी मैं उस की गली
यादों में उस की यूँ चलने लगी||

Garmi Ki Dhoop Ab Lage Bhali
Sard Hawaayen Jo Chhooti Chali
Man Me Fuhaaren Si Uthne Lagi
Yoon Us Ki Yaaden Bhigoti Chali||

गर्मी की धूप अब लगे भली
सार्ड हवाएँ जो छूती चली
मन में फुहारें सी उठने लगी
यूँ उस की यादें भिगोती चली||

By: Ravi Bhattacharya

 1,301 Total Views,  5 Views Today

Spread the love

Tum Jaan Ho Tum Jahaan Ho

Tum Jaan Ho, Tum Jahaan Ho,
Mere Muskuraane Ki Wajah Ho,
Ishq Ki Ek Khilkhilaati Si Ada Ho,
Mere Ashqo Me Bheegi Rooh Ki Dua Ho,
Tum Hi To Wafa Ho, Wazib Kai Ki Pahli Dafa Ho ||

तुम जान हो, तुम जहान हो,
मेरे मुस्कुराने की वजह हो,
इश्क की एक खिलखिलाती सी अदा हो,
मेरे अश्कों में भीगी रूह की दुआ हो,
तुम ही तो वफ़ा हो, वाजिब है कि पहली दफ़ा हो||

Tum Jaan Ho, Tum Jahaan Ho,
Mere Labon Par Khilti Sabra Ka Muskaan Ho,
Meri Har Ek Uljhan Ka Sulajhta Sa Jawab Ho,
Shahad Si Meetha Meri Aarzoo Ka Khawaab Ho,
Tum Hi To Meri Dhadkano Me Baste Yoon Behisaab Ho||

तुम जान हो, तुम जहान हो,
मेरे लबों पर खिलती सब्र की मुस्कान हो,
मेरी हर एक उलझन का सुलझता सा जवाब हो,
शहद सी मीठा मेरी आरज़ू का ख़्वाब हो,
तुम ही तो मेरी धड़कनों में बसते यूँ बेहिसाब हो||

Tum Jaan Ho, Tum Jahaan Ho,
Os Ki Boondon Me Khilta Rahmaton Ka Gulaab Ho,
Mere Pyar Ke Lahoo Se Nikalta Masoomiyat Ka Gulaal Ho,
Mere Jazbaton Ko Roshan Karta Hasraton Ka Mehtaab Ho,
Tum Hi To Meri Saanson Me Doobti Yaadon Ka Aihsaas Ho||

तुम जान हो, तुम जहान हो,
ओस की बूँदों में खिलता रहमतो का गुलाब हो,
मेरे प्यार के लहू से निकलता मासूमियत का गुलाल हो,
मेरे जज़्बातों को रोशन करता हसरतो का महताब हो,
तुम ही तो मेरी साँसों में डूबती यादों का एहसास हो||

Tum Jaan Ho, Tum Jahaan Ho,
Mere Dil Me Rahmaton Ka Karaar Hao,
Behoshi Me Duboti Nasheeli Sharaab Ka Deedar Ho,
Gul Se Mahakti Shabaab-E-Jaam Ho,
Tum Hi To Meri Baanhon Ki Jakad Me Fursat Ki Bahaar Ho||

तुम जान हो, तुम जहान हो,
मेरे दिल में रहमतो का करार हो,
बेहोशी में डूबोती नशीली शराब का दीदार हो,
गुल से महकती शबाब-ए-जाम हो,
तुम ही तो मेरी बाहों की जकड़ में फुर्सत की बहार हो||

By: Jeet

 958 Total Views,  4 Views Today

Spread the love

Sej Saja Kar To Dekh

Mana Loonga Tujhe Tu Rooth Kar To Dekh
Poore Honge Khwaab Tu Saja Kar To Dekh
Aaj Karta Hoon Waada Teri Har Khushi Ka
Tu Mujhe Apni Zindagi Me La Kar To Dekh ||

मना लूँगा तुझे तू रुठ कर तो देख
पूरे होंगे ख्वाब तू सजा कर तो देख
आज करता हूँ वादा तेरी हर ख़ुशी का
तू मुझे अपनी ज़िन्दगी में ला कर तो देख ||

Zindagi Haseen Hai Muskura Ke To Dekh
Apne Chaahne Waale Ko Azma Kar To Dekh
Pachhtaoge Naa Kabhi Pyar Kar Ke Hum Se
Is Dil Ke Kareeb Thoda Aa Kar To Dekh ||

ज़िन्दगी हसीं है मुस्कुरा के तो देख
अपने चाहने वाले को आज़मा कर तो देख
पछताओगे ना कभी प्यार कर के हम से
इस दिल के करीब थोड़ा आ कर तो देख ||

Mere Shabdon Ki Chitthi Bana Kar To Dekh
Mere Pyar Ki Chaadar Bichha Kar To Dekh
Dil Sulagata Hai Pyar Ki Agan Me Ab
Aaj Is Agan Ko Bujha Kar To Dekh ||

मेरे शब्दों की चिट्ठी बना कर तो देख
मेरे प्यार की चादर बिछा कर तो देख
दिल सुलगता है प्यार की अगन में अब
आज इस अगन को बुझा कर तो देख ||

Ujda-E-Chaman Basa Kar To Dekh
Aaina-E-Husn Ranwaan Ke To Dekh
Armaano Ki Chita Ki Raakh Ko Chhod
Ab Pyar Ki Sej Saja Kar To Dekh ||

उजड़ा-ए-चमन बसा कर तो देख
आइना-ए-हुस्न रंवा के तो देख
अरमानो की चिटा की राख को छोड़
अब प्यार की सेज सजा कर तो देख ||

By: Ravi Bhattacharya

 482 Total Views,  2 Views Today

Spread the love