ज़िन्दगी इस तरह

Zindgi Is Terah - Shayari by Neeraj

Zindgi Is Terah – Gopaldas Neeraj

Jab Chale Jayenge Ham
Laut Ke Sawan Ki Terah
Yaad Aayenge Pratham
Pyar Ke Chumban Ki Terah ||

जब चले जायेंगे हम
लौट के सावन की तरह
याद आएंगे प्रथम
प्यार के चुम्बन की तरह ||

Zikra Jis Dam Bhi Chhida
Un Ki Gali Me Mera
Jaane Sharmaaye Wo Kyoon
Gaanv Ki Dulhan Ki Terah ||

ज़िक्र जिस दम भी छिड़ा
उन की गली में मेरा
जाने शर्माए वो क्यूँ
गाँव की दुल्हन की तरह ||

Bollywood Songs written by Neeraj

Mere Ghar Koi Khushi
Aati To Kaise Aati
Umra-Bhar Saath Raha
Dard Mahajan Ki Terah ||

मेरे घर कोई ख़ुशी
आती तो कैसे आती
उम्र-भर साथ रहा
दर्द महाजन की तरह ||

Koi Kanghi Na Mili
Jis Se Suljh Paati Wo
Zindgi Uljhi Rahi
Brahma Ke Darshan Ki Terah ||

कोई कंघी ना मिली
जिस से सुलझ पाती वो
ज़िंदगी उलझी रही
ब्रह्मा के दर्शन की तरह ||

Daag Mujh Me Hai Ki Tujh Me
Ye Pata Tab Hoga
Maut Jab Aayegi
Kapde Liye Dhoban Ki Terah ||

दाग मुझ में है की तुझ में
ये पता तब होगा
मौत जब आएगी
कपड़े लिए धोबन की तरह ||

Har Kisi Shaks Ki Kismat Kaise
Yahi Hai Kissa
Aaye Raaja Ki Terah
Jaaye Wo Nirdhan Ki Terah ||

हर किसी शख्स की किस्मत कैसे
यही है किस्सा
आये राजा की तरह
जाए वो निर्धन की तरह ||

Jis Me Insaan Ke Dil Ki
Na Ho Dhadkan ‘Neeraj’
Shayari To Hai Wo
Akhbar Ke Katran Ki Terah ||

जिस में इंसान के दिल की
ना हो धड़कन ‘नीरज’
शायरी तो है वो
अख़बार के कतरन की तरह ||

by Neeraj (Gopaldas Neeraj)

 1,152 Total Views,  3 Views Today

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here